Tuesday, October 12, 2010

' माल-ए-मुफ्त, दिल-ए-बेरहम ! ' : हास्य-कविता ( Hasya Kavita - Majaal )

वाह साहिब !
क्या मुश्किल आपकी !
क्या विकट स्तिथि, क्या भरम ?!
शुरू करें मीठे से,
या चखे  पहले खमण !

रसगुल्ला न गटका,
तो क्या दावत उड़ाई ?!
डाईबटीस जाए भाड़ में,
थोड़ी सी रसमलाई  !

मियां 'मजाल' रह रह कर,
दिमागी अटकलों में उलझ जाएँ ,
शाही पनीर आजमाए,
या कोरमे पर शौक फरमाए  ! 

 न छोड़ी नान,
और तंदूरी रोटी भी खाई,
पेट ने डकार मार दिया संदेसा,
पर थे अपनी धुन में भाई !

इमरती नरम,
गुलाब जामुन,
गरमा गरम !
माल-ए-मुफ्त,
दिल-ए-बेरहम !
सूते जाईये  'मजाल',
समझ के, खुदा का करम !

कॉफ़ी  की भी मारी चुस्कियाँ,
कोका कोला  भी पेट में उड़ोला  !
ठंडे , गरम का न किया लिहाज़,
भाई ने किसो को नहीं छोड़ा !

समापन समारोह में भी,
तबीयत कब शरमाई ?!
पान भी चबा गए कई,
शिकंगी भी खूब भराई !

सोचा था हजूर ने,
मौका है न गवाओं,
एक सौ एक का,
लिफ़ाफ़ा  थमाया है,
कम से कम दौ सौ का तो,
माल उड़ाओ!

पर किस्मत  ने करी चोट,
तबीवत ने दिखाई  चतुराई !
अगले दिन सुबह सुबह ,
पेट ने दी दुहाई !

पार्टी में वसूली का,
नुस्खा न काम आया,
डाक्टर ने अलग से,
घुसेड़ा  इंजेक्शन,  
दवा ने अलग,
अपने वास्ते ,
पाँच  सौ एक का,
शगुन लगवाया !

4 comments:

Akshita (Pakhi) said...

अंकल जी आप तो खूब मजेदार लिखते हैं ...हा..हा..हा..मेरे ब्लॉग पर भी आप आना.

परमजीत सिँह बाली said...

बहुत बढ़िया!!

उस्ताद जी said...

2/100

टाईम पास

देवेन्द्र पाण्डेय said...

हा..हा..हा..
..इस कविता में गुदगुदाने वाला हास्य और चिढ़ाने वाला व्यंग्य है। कभी न कभी तो सभी इसके शिकार हुए होंगे मगर बात तब बनी जब हास्य-व्यंग्य के कवि ने दावत उड़ाई। स्वीकार करें हमारी बधाई।

Related Posts with Thumbnails