Thursday, October 14, 2010

' च न क ट ! ' - हास्य-कविता ( Hasya Kavita - Majaal )

उफ़ !
वह समय !
जब तवम,
यह जगत,
उपसथत !

तवम परम जड़ मत !
सब यतन-जतन,
सब  गरह,
तवम समक्ष,
असफल !
' यह मम रच ?! '
सवयम भगवन अचरज ! 

यह बड़ कद कठ,
न कम धम करत ,
बस धन खरच,
खपत खपत फकत !
हमर नक दम,
जब तब !

कमबखत !
करम जल !
हम गय पक ! 
समझ यह  हद !
अब जल सर चढ़ !
हमर सबर ख़तम !

अगर अब करत उलट पलट !
तवम पठ, हमर लठ !
बक बक न कर,
हम धर, 
एक चनकट !

6 comments:

संजय भास्कर said...

किस खूबसूरती से लिखा है आपने। मुँह से वाह निकल गया पढते ही।

Udan Tashtari said...

बहुत सही..

उस्ताद जी said...

00/10


समझ से बाहर
बेतुकी

ALOK KHARE said...

sahi he bro/ khoob tukbandi /jugal bandi he
waqtr ka sahi istemaal

दीप्ति शर्मा said...

bahut khub
www.deepti09sharma.blogspot.com

दिगम्बर नासवा said...

क्या अंदाज़ है आपका ... मजेदार है ...

Related Posts with Thumbnails