Thursday, September 23, 2010

हास्य - बिना मात्रा की कविता ! ( अगर न अब, तब कब ?! )

बिना मात्रा की कविता - २

वह कहत,
अधरम बढ़त जब-जब,
हम परकट !

अखयन  कम ?
नयन ख़तम ?
यह वकत  सखत,
तवम न अवगत ?!
चल हट!
तवम असत!
न करत,
बस कहत,
फकत !

हरपल, हरदम,
ग़म बस गम ! 
हर जगह छल कपट,
लगत यह - सब जन,
मत गय मरत ! 

धन कम पर,
न कम खपत !
समधन, हमदम,
सब गयत भग!
नयन बनत  जल तट !
सनशय, सनशय, सब तरफ ! 
मन भय - परलय कब ?!

कम यह सबब ?
भगवन !
अब यह हद !

अगर,
अब न परकट,
तब कब ?

वद ! वद !

10 comments:

kshama said...

Wah...ye bhi khoob rahi...kalpnashaktiki mazedaar udaan!

वीना said...

धन कम पर,
न कम खपत !
समधन, हमदम,
सब गयत भग!
नयन बनत जल तट !
सनशय, सनशय, सब तरफ !
मन भय - परलय कब ?!
भई मजा आ गया पढ़कर-वद...वद.....वाकई
कभी यहां भी आइए और रचनाएं पसंद आएं तो फॉलोकर उत्साह बढ़ाइए
http://veenakesur.blogspot.com/

ali said...

सबद लखत मन संशय भागत !

AlbelaKhatri.com said...

अजब
गज़ब
सरस सरस रस सर सर बरसत
पढ़त पढ़त तन मन सब हरषत

अनामिका की सदायें ...... said...

आप की रचना 24 सितम्बर, शुक्रवार के चर्चा मंच के लिए ली जा रही है, कृप्या नीचे दिए लिंक पर आ कर अपनी टिप्पणियाँ और सुझाव देकर हमें अनुगृहीत करें.
http://charchamanch.blogspot.com


आभार

अनामिका

M VERMA said...

यह प्रयोग अच्छा लगा

वन्दना said...

बेहतरीन तरीका ईज़ाद किया है।

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

बढ़िया प्रयोग ...

Tarkeshwar Giri said...

Wah! Wah! Wah! Great

'उदय' said...

...anokhaa andaaj hai, badhaai !!!

Related Posts with Thumbnails