Saturday, September 25, 2010

' यूँ ! ' - शायरी करने का नुस्ख़ा (हास्य कविता) ! ( Hasya Kavita - Majaal )

वो पूछते है हमसे,
शायरी करने का नुस्ख़ा,
वाकिफ तो हम मगर,
उन्हें समझाएँ  कैसे,
" कि ' यूँ ' ! "

लफ़्ज़ों से ज्यादा,
मायने रखता है लहज़ा,
कि आप कहे " ऐसे ",
और हम कहें,
" कि ' यूँ ' ! "

कभी कभी एक बात के,
मतलब निकले कई,
कि हमने कहा " वैसे "
और वो समझें,
" कि 'यूँ' ! " 

हो खुदा भी परेशान,
कमबख्त क्या कह गया ?!
ऐसी शायरी भला,
जनाब करें क्यूँ ?

बाद हफ्ते देखो और,
सोचो  ' लिखा ही क्यों ? '
'मजाल' लिखिए जरूर,
मगर न लिखिए ' यूँ ! '  

5 comments:

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

यूँ कि ..अब लिख ही दिया है तो पढ़ भी लिया ....बढ़िया लगी रचना ..

भारतीय नागरिक - Indian Citizen said...

अब सोच में पड़ गये है कि
वाह वाह ऐसे कहें या कहें कि यूं..

AlbelaKhatri.com said...

मजाल है किसी की जो लिख सके यूँ !

हा हा हा हा हा

ali said...

क्या पता हो शायरे आज़म का अब कैसा मिजाज़
हम कहें कि हाल क्या है वो कहें बस 'यूं' ही हूं

हास्यफुहार said...

बहुत अच्छी प्रस्तुति।

Related Posts with Thumbnails