Saturday, November 20, 2010

कुछ तुकबंदी, कुछ शायरी, और कुछ फलसफे ...( Shayari - Majaal )

मिला एक, चाहे दो गया,
हँसता ही चला वो गया !

यादें कुरेद हासिल हो क्या ?
वापिस कब आया, जो गया ?!

मैला सा कुछ मलाल था,
आँसू बहा, और धो गया !

पूरी जिंदगी आगे बची,
ऐसा भी क्या है खो गया ?!

एक उम्र बाद पता चला,
क्या बीज  था वो  बो गया !

देखी जिंदगी,  हुई हैरानगी,
सब खुद ब खुद ही हो गया !

ये सोच चीज़ कातिलाना,
समझ फँसा तू,  तो गया !
 
इलाजे ग़म आसाँ 'मजाल',
भरपेट खाया,  सो गया !

6 comments:

Kajal Kumar said...

वाह क्या बात है

भारतीय नागरिक - Indian Citizen said...

जिन्दगी कहां बाकी रहती है दोस्त...

ali said...

मजाल साहब,
आपके फिलासोफराना तेवर , बेहतर कहूं याकि बेहतरीन !

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

मैला सा कुछ मलाल था,
आँसू बहा, और धो गया !
बहुत खूब ..

Majaal said...

आप सभी का प्रतिक्रियाओं के लिए बहुत बहुत शुक्रिया ....

Rajendra Swarnkar : राजेन्द्र स्वर्णकार said...

मजाल जी
क्या बात है ! कमाल की रचना है
जी कर रहा है हम भी कुछ कहें…
रचना मजाल की
कितने कमाल की

बहुत ख़ूब ! बहुत ख़ूब !!


- राजेन्द्र स्वर्णकार

Related Posts with Thumbnails