Friday, November 26, 2010

शायरी : कुछ इस तरह से हम ये दुनिया समझे, समझा खुदी को, और पूरा जहाँ समझे ! ( Shayari - Majaal )

कुछ इस तरह से हम ये दुनिया समझे,
समझा खुदी को, और पूरा जहाँ समझे !

समझाने वाले समझ गए इशारों में,
जो न समझे, हज़ारों में भी ना समझे !

ना दोस्ती किसी से, ना  की दुश्मनी ही,
सब अपनी तरफ से ना, कभी हाँ समझे !

एक पल में लगा यूँ, समझ लिया सबकुछ,
औए अगले पल लगा, अभी कहाँ समझे ?!

'मजाल' अपनी ख़ुशी अपने हाथों में,  
खुदी से पा कर  दाद जाँहपना समझे !

14 comments:

Admin said...

समझाने वाले समझ गए इशारों में,
जो न समझे, हज़ारों में भी ना समझे !

अछा है

Admin said...

अच्छा *

Hindi-Article Admin said...

बहुत अच्छी कविता, कृपया मेरे नए ब्लॉग पर भी नज़र डाले ....

Majaal said...

आप सभी लोगों का प्रतिक्रियाओं के लिए आभार ....
हिंदी आर्टिकल साहब, आपकी प्रोफाइल काम करती नहीं दिखती,ब्लॉग की लिंक दे. तब तो हम वहाँ पहुँचे ...

भारतीय नागरिक - Indian Citizen said...

हम तो समझे..

anshumala said...

समझ समझ कर समझ को समझो समझ समझना भी एक समझ है समझ समझ कर जो ना समझे मेरी समझ से वो ना समझ है | क्या समझे :-)

sada said...

बहुत ही सुन्‍दर शब्‍दों से सजी यह रचना ।

निर्मला कपिला said...

समझाने वाले समझ गए इशारों में,
जो न समझे, हज़ारों में भी ना समझे !

ना दोस्ती किसी से, ना की दुश्मनी ही,
सब अपनी तरफ से ना, कभी हाँ समझे !
क्या मजाल हमारी कि आपकी बात न समझें। बहुत अच्छी लगी आपकी शायरी। बधाई।

arvind said...

bahut achhi shaayeri.

केवल राम said...

समझाने वाले समझ गए इशारों में,
जो न समझे, हज़ारों में भी ना समझे !
एकदम स्पष्ट बात ...समझदार के लिए इशारा ही काफी है ..बात याद आ गयी

चलते -चलते पर आपका स्वागत है

ali said...

बोध पर इतनी बेहतर , इतनी गहरी बातें ! आप कभी बोधि वृक्ष के नीचे बैठे थे क्या ?
सीरियसली पूछ रहा हूं ! पिछले कुछ एपिसोड से आप जबरदस्त फ़ार्म में हैं बस इसलिए !

shalini kaushik said...

aapne yad dila hi diya ki samajh samajh kar samajh ko samjho samajh samjhna bhi ek samajh hai samajh samajh kar bhi na jo samjhe meri samajh me vo na samajh hai.
blog ka nam dekh man me vyang ki khurafat ne janm liya tha kintu prastuti itni sarahniye thi ki sab khurafat hawa ho gayee.

अनुपमा पाठक said...

बहुत सुंदरता से समझ को समझती हुई रचना!

कविता रावत said...

badiya prastuti

Related Posts with Thumbnails